Little Known Facts About रात को 11 बार मंत्र लिखकर जो सोचोगे सुबह तक वशीकरण हो जाएगा. +91-9914666697




जी हाँ ,दोस्तोँ! कोई भी ऐसा व्यक्ति नहीँ जो रामायण व महाभारत का नाम न जानता हो? ये दोनोँ महाग्रन्थ क्रमशः श्रीराम और कृष्ण के उज्ज्वल चरित्र को उत्कर्षित करते हैँ, उसी प्रकार साईँ के जीवनचरित्र की एकमात्र प्रामाणिक उपलब्ध पुस्तक है- “साँईँ सत्चरित्र”॥

सत्यनारायण राजू ने शिरडी के साईं बाबा के पुनर्जन्म की धारणा के साथ ही सत्य साईं बाबा के रूप में पूरी दुनिया में ख्याति अर्जित की। सत्य साईं बाबा अपने चमत्कारों के लिए भी प्रसिद्ध रहे और वे हवा में से अनेक चीजें प्रकट कर देते थे और इसके चलते उनके आलोचक उनके खिलाफ प्रचार करते रहे।वैसे ये भी एक नंबर का नाटक खोर था !

परन्तु साँई बाबा कौन थे? उनका आचरण व व्यवहार कैसा था? इन सबके लिए हमेँ निर्भर होना पड़ता है “साँई सत्चरित्र” पर!

क्यू की राजू के जन्म की बात उस किताब में दो जगह आ चुकी है !

१९२९ – श्री दाभोलकर ने श्री साईं सत्चारिता का मराठी में प्रकाशन किया,लेकिन अब तक जो कबीर के अवतार थे वे अब भगवान दत्तात्रेय के अवतार हो गए और दाभोलकर साहब और उनके दल के लोगों ने जो बाबा अब तक मुस्लिम फ़क़ीर के रूप में प्रसिद्ध थे उन्हें ब्राह्मण सिद्ध करना शुरू कर दिया.

निम्न तस्वीर में बिच वाला साईं नही है ! बिच वाले व्यक्ति की तस्वीर , दाये-बाये (असली साईं) की जगह लेने का प्रयास कर रही है ! यदि ध्यान नही दिया गया तो असली साईं की तस्वीर बिच वाली तस्वीर से बदल दी जाएगी । क्योकि बिच वाले की सूरत भोली है !

दोस्तोँ आईये पहले चालिसा का अर्थ जानलेते है:-

इसी तथ्य के कारन शिर्डी साईं को प्रसिद्धी मिलनी शुरू हुई !

शिर्डी के मुख्य द्वार click here पर साईं बाबा उर्फ़ चाँद मियां की कब्र

इसमे हमारा नहीं आपका ही फायदा है …. श्रद्धा और अंधश्रद्धा में फर्क होता है,

K. Sharma ji. I frequented him with my difficulty and he questioned me to perform an exceedingly simple ritual. Soon after performing the ritual the Mind-set of that person was completely improved and he commenced respecting me and I had been also promoted. This can be all due to blessings of Pandit ji. See Additional

People who claimed they feels faith in Sai’s worship are unfamiliar with the true muslim facial area of sai. Sai was a standard muslim fakir or beggar getting no supernatural electric power. So those who say sai is god are demonstrates their disrespect for Hindus deities.

इसी प्रकार ये लोग पुनर्जन्म लेते रहेंगे,

दोस्तों उपर हम देख चुके है की ये किताब निश्चित रूप से सत्य साईं (राजू) के जन्म के पश्चात लिखी गई !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *